मेरा परिचय

My photo
Delhi, India
प्रिय उत्तरांचली मित्रो, आप सभी को मेरा आदर युक्त सादर सेवा भाविक नमस्कार,| मेरा नाम विजय सिंह बुटोला है | मैं मूल रूप से टिहरी गढ़वाल उत्तराखंड का निवासी हूँ | वर्तमान समय में मैं परिवार सहित दिल्ली में रहता हूँ | आज इन्टरनेट के मध्यम से हम सभी उत्तराखंडी एक दुसरे के साथ जुड़े हुए है तथा किसी न किसी रूप में उत्तराखंड की विभिन्न समाज सेवी संस्थाओ के द्वारा हम सभी वहा के जन-समुदाय के लिए अपने अपने सामर्थ अनुसार जुड़े हुए है | जिन्होंने अपने सतत प्रयासों द्वारा दुनिया भर में बसे उत्तराखंडियों को इंटरनेट के मध्यम से जोड़ा हुआ है , जहाँ हम सभी सफलतापूर्वक अपनी क्षमता और संसाधनों का विभिन्न रूपों में उत्तराखंड राज्य तथा उसके निवासियों के विकास के लिए उपयोग करते हैं |यह वास्तव में एक उत्कृष्ठ व सराहनीय प्रयास है| एक उत्तराखंडी होने के नाते मैं आप सभी से आशावान हूँ कि आपके दृढ-निश्चय और लगनशीलता से किए गए प्रयासों से ही हमारा उत्तराखंड निश्चय ही एक सम्रध व विकसित राज्य बन सकेगा |

Monday, December 19, 2016

जन्मभूमि रही पुकार


जन्मभूमि रही पुकार


जन्मभूमि हमें हमारी है रही पुकार, कर रही चीत्कार
सूने पड़े है चहूँ खेत-खलिहान खली है गौं-गुठियार
हैं निर्जन वो गलियाँ जंहा पथिको को थी कभी भरमार
राहें जाग रही है बाट जोहे है उन्हें पदचिन्हों का इंतजार 

गिने चुने जन ही शेष है सन्नाटा पसरा हुआ है चहूँ और
ताक रही है धरती ऐसे मानो की जैसे रुग्ण व्यक्ति ताके भोर
अविरल बहते नदी-नाले भी मुड़ गए अनजान राहों पर
जंगल-पहाड़ भी मौन खड़े है आँखे उनकी भी हैं तर 

खेतों-खलिहानों में भी अब बाँझपन कर चूका है घर
ये इनके वक्षो पर नमी नहीं है ये अशरुओ से तर-तर
फूलो ने भी महकना छोड़ा साथ ही फलों के वृक्ष भी हुए बाँझ
ये धरती भी करती है प्रतीक्षा तुम्हारे आने की प्रात: हो या साँझ 

घुघूती भी अब नहीं बासती आम की डालियों पर
कलरव छोड़ा चिडियों ने जैसे ग्रहण लगा हो इस धरा पर
जंगल और पहाड़ की आँखे लगी है उन राहों पर
घसेरियां जहा खुदेड़ गीत लगा याद करती थी अपना प्रियवर 

चैत महीने के कोथिगो व् मेलों की न रही वो पहिचान
धुल-धूसरित हुई संस्कृति खो गया कही लोककला का मान 
काफल-बुरांस के पेड़ अब लाली नहीं फैलाते नहीं हो रहे प्रतीत
सोचो तो जरा कभी क्योँ बिसराया हमने पहाड़ क्यों छोड़ी वो प्रीत
 
हे शैलपुत्रो बुला रही है ये धरती तुम्हे आओ करो इसका पुन: श्रंगार
चार दिन के इस जीवन में कभी तो समय निकालो दो इसको अपना प्यार 
ये जन्मभूमि हमारी माता है इसका हमसे अटूट नाता है
बिसर गए हैं हम इसको ये कैसी लीला विधाता है 

आओ लौट चले इसकी जीवनदायिनी गोद में
यही तो हमारी माता है 



ऐ इंसान जरा तू ठहर



ऐ इंसान जरा तू ठहर
जीवन कि इस दैनिक भागदौड़ में
इंसान का अपना वजूद खो गया है आशाओ के भंवर में
सब कुछ पा लेने कि चाहत में मशगुल है इस तरह
न चाहते हुए भी भूल गया है ख़ुद को खोजता है दुसरो के अक्स में

दिन भर व्यस्त रहकर मग्न है अपने काम में
फुरसत नही है दो जून लेने कि सुबह हो या शाम में
सपनों का संसार बुना है उसने अपने मन के ताने-बने में
जाने कब होंगे पूरे सपने उसके बात होती है हर अफसाने में

बेसुध इंसान पा लेना चाहता है हर उस मुकाम को
बाकि सब कुछ याद है भूल गया है बस आराम को
इस भागदौड़ में हर कोई इस कदर आगे पहुचना चाहता है
पाने को अपनी मंजिल कोई खून तो कोई पसीना बहाता है

न जाने कब मिटेगी इंसान कि ये तृष्णा और पिपासा
सच आता है जब सम्मुख रह जाता है फिर भी प्यासा

क्या लाया था इस जग में न दौड़ इस कदर
कर कर्म होगा सब मनचाहा ऐ इंसान जरा तू ठहर ....जरा तू ठहर

दूसरा ब्यो कु विचार (गढ़वाली हास्य कविता )

दूसरा ब्यो कु विचार (गढ़वाली हास्य कविता )

एक दिन दगडियो आई मेरा मन माँ एक भयंकर विचार
की बणी जौँ मैं फिर सी ब्योला अर फिर सी साजो मेरी तिबार
ब्योली हो मेरी छड़छड़ी बान्द जून सी मुखडी माँ साज सिंगार
बीती ग्येन ब्यो का आठ बरस जगणा छ फिर उमंग और उलार

पैली बैठी थोऊ मैं पालंकी पर अब बैठण घोड़ी पकड़ी मूठ
तब पैरी थोऊ मैन पिंग्लू धोती कुरता अब की बार सूट बूट
बामण रखण जवान दगडा ,बूढया रखण घर माँ
दरोलिया रखण काबू माँ न करू जू दारू की हथ्या-लूट

मैन यु सोच्यु च पैली धरी च बंधी कै गिडाक
खोळी माँ रुपया दयाणा हजार नि खापौंण दिमाक
फेरो का बगत अडूनु मैन मांगण गुन्ठी तोलै ढाई
पर डरणु छौं जमाना का हाल देखि नहो कखी हो पिटाई

पैली होई द्वार बाटू ,बहुत ह्वै थोऊ टैम कु घाटू
गौं भरी माँ घूमी कें औंण, पुरु कन द्वार बाटू
रात भर लगलू मंड़ाण तब खूब झका-झोर कु
चतरू दीदा फिर होलू रंगमत घोड़ा रम पीलू जू

तब जौला दुइया जणा घूमणा कें मंसूरी का पहाडू माँ
दुइया घुमला खूब बर्फ माँ ठण्ड लागु चाई जिबाडू माँ

ब्यो कु यन बिचार जब मैन अपनी जनानी थैं सुणाई
टीपी वीँन झाडू -मुंगरा दौड़ी पिछने-२ जख मैं जाई
कन शौक चढी त्वै बुढया पर जरा शर्म नि आई
अजौं भी त्वैन जुकुडी माँ ब्यो की आग च लगांई

नि देख दिन माँ सुप्नाया, बोलाणी च जनानी
दस बच्चो कु बुबा ह्वै गे कन ह्वै तेरी निखाणी
मैं ही छौं तेरी छड़छड़ी बान्द देख मैं पर तांणी
अपनी जनानी दगडा माँ किले छ नजर घुमाणी

तब खुल्या मेरा आँखा-कंदुड़ खाई मैन कसम
तेरा दगडी रौलू सदानी बार बार जनम जनम

रचनाकर :- विजय सिंह बुटोला
दिनांक :- 15-12-2008


मेरी जन्मभूमि



मेरी जन्मभूमि



है जन्मभूमि स्वर्ग से भी महान 
हम करे न्योछावर इसपर तन ,मन और प्राण 
इसके आस्तित्व से ही है हमारी पहचान 
बढे मिलकर हम यही हो बस मन में अरमान

हो संगठित और समर्पित इसे संवारे 
निस्वार्थभावः कर्म कर इसे निखारे 
चिर-यौवना रहे सदा ये धारा ऐसा कुछ विचारे 
हमारी यह धारा हमे निस दिन यही पुकारे

हे जन्मभूमि तुझे हम सर्वस्व अर्पण करे 
अभिलाषा है हमारी सर्व कर्म समर्पण करे 
है हमारे रक्त मे समाहित तेरी ही महक 
तेरे लिए कर्म करू ,कम है जो प्राण भी तरु

इस धारा के प्रताप पाई हमने जग मे पहचान 
निष्काम भाव से कर्म कर दे हम अपना योगदान 
इसकी माटी मे जन्मे बना हमारा आधार 
बिसराये इस धारा को यही है समय की पुकार


मैत की याद



मैत की याद


मन च आज मेरु बोलंण लग्युं जा 
घर बौडी जा तौं रौत्याली डंडी कांठियों मा 
मेरु मुलुक जग्वाल करणु होलू 
कुजणी कब मैं वख जौलू कब तक मन कें मनौलू
अपणा प्राणों से भी प्रिय छ हम्कैं ई धारा 
किलै छोड़ी हमुन वु धरती किलै दिनी बिसरा 
इं मिट्टी माँ लीनी जन्म यखी पाई हमुन जवानी 
खाई-पीनी खेली मेली जख करी दे हमुन वु विराणी
हमारा लोई में अभी भी च बसी सुगंध इं मिट्टी की 
छ हमारी पछाण यखी न मन माँ राणी चैन्दि सबुकी 
देखुदु छौं मैं जब बांजा पुंगडा ढल्दा कुडा अर मकान 
खाड़ जम्युं छ चौक माँ, कन बनी ग्ये हम सब अंजान
याद ओउन्दी अब मैकि अब वु पुराणा गुजरया दिन 
कन रंदी छाई चैल पैल हर्ची ग्यैन वु अब कखि नी छिंन

याद बौत औंदन वू प्यारा दिन जब होदू थौं

काली चाय मा गुडु कु ठुंगार 
पूषा का मैना चुला मा बांजा का अंगार 
कोदा की रोटी पयाजा कु साग 
बोडा कु हुक्का अर तार वाली साज
चैता का काफल भादों की मुंगरी 
जेठा की रोपणी अर टिहरी की सिंगोरी 
पुषों कु घाम अषाढ़ मा पाक्या आम 
हिमाला कु हिंवाल जख छन पवित्र चार धाम
असुज का मैना की धन की कटाई 
बैसाख का मैना पूंगाडो मा जुताई 
बल्दू का खंकार गौडियो कु राम्णु 
घट मा जैकर रात भरी जगाणु
डाँडो मा बाँझ-बुरांश अर गाडियों घुन्ग्याट
डाँडियों कु बथऔं गाड--गदरो कु सुन्सेयाट 
सौंण भादो की बरखा, बस्काल की कुरेडी 
घी-दूध की परोठी अर छांच की परेडी
हिमालय का हिवाँल कतिकै की बगवाल
भैजी छ कश्मीर का बॉर्डर बौजी रंदी जग्वाल 
चैता का मैना का कौथिग और मेला 
बेडू- तिम्लौ कु चोप अर टेंटी कु मेला
ब्योऊ मा कु हुडदंग दगड़यो कु संग 
मस्क्बजा की बीन दगडा मा रणसिंग 
दासा कु ढोल दमइया कु दमोऊ 
कन भालू लगदु मेरु रंगीलो गढ़वाल-छबीलो कुमोऊ
बुलाणी च डांडी कांठी मन मा उठी ग्ये उलार
आवा अपणु मुलुक छ बुलौणु हवे जावा तुम भी तैयार

रचियेता: विजय सिंह बुटोला
25-10-2008


एक दिन की बारात कु हाल




Sunday, March 3, 2013
एक दिन की बारात कु हाल


प्रिय मित्रो, सादर नमस्कार,
प्रस्तुत हास्य कविता मैंने उत्तरांचल में आज कल प्रचलित एक दिवसीय विवाह के होने के बारे में लिखी है

एक बार दगडियो
मैके भी दिन दिन की बारात माँ जाणा कु मौका मिली
चल दगडियो का संग मन प्रसन्न मुखुडी को रंग तब खिली
झटपट हवे गे वरनारायण तैयार
पैरी वें सूट बूट आर टांगी कमर माँ तलवार
सड़की माँ गाड़ी थाई खड़ी मारनी छाई होरण
ढोल दमौं मसकबिन संग बाजणा था रणसिंघा-तोरण
बारात पहुची सड़की माँ सबुन अपनी सीट खुजाई
वरनारायण कु मामा आर दही की परोठी घर छुटी गयाई
चली ग्ये बारात डांडी-कंठियो माँ होण च गाड़ी कु सुन्स्याट
सभी पौणा बन्या चन दारू माँ रंग मस्त करना चन खिक्लीयाट
बारात ज़रा रुकी बीच बाजार 
दरौल्या पहुची ठेका माँ रुपया लेकी हजार
चल पड़ी गाड़ी कुई छुटी गे होटल माँ कुई छुटी धार पोर
दरोलिया दिदो कु त छोऊ बस बोतली पर शोर
बारात पहुची चौक माँ होण लगी गे स्वागत
कुई बैठी कुर्शी माँ कुई बैठी दरी माँ अर कुई बैठी छत
जवान छोरा खोजना छन, गलेर नौनी कुजणी कख हर्ची गे
बोलना छन की अब नि राये वू रंगत जू पैली छाई
बैठी पौणा पंगत माँ खाई उन काचू भात
दाल माँ लोण भिन्डी ह्व्वे गे अब बोन क्या बात
कखी नि मिली पानी कखी नि मिली सौंफ-मिश्री
हे हिमाला की हव्वे यु हम सब संस्कार बिसरी
बामण दीदा न पढ़ी सटासट अपना मंत्र
ब्यौला का कंदुड़ माँ वैन बोली तब यन्त्र
फेरा फेरी सरासर ब्यौली च रेस लगाणी
ब्यौला दीदा पिछने रेगे, ब्यौली नी छौंपी जाणी
पैटी बारात ब्यौली अब नी जयादा रोंदी दिखेंदी
डोला माँ बैठी जे ब्यौली बव्वे बुबा सबी मनौंदी
यन राइ दिदो मेरु एक दिनी की बारात कु हाल
सब कुछ सरासर हौंदु यख यनु बणी गे कुमॉऊ-गढ़वाल
रचियेता: विजय सिंह बुटोला
दिनांक 16-10-2008

मेरु क्या कसूर छा

Friday, January 31, 2014

मेरु क्या कसूर छा

मेरु क्या कसूर छा

रीति अर रिवाजो का नाम पर 
कुजाणी कब तल्क मिटणु रौलू मैं 
आंख्यो का आंसू पोंछी कें
मैं पूछी अपणी माँ थैं
किले दिनी त्वैन मैं बेटी कु जन्म
बोल मेरी माँजी मेरु क्या कसूर छा
जू मिली मैथै बेटी कु जन्म

क्या दर्द अर पीड़ा बनी कें रलू यो मेरु जीवन 
तेरी कोख मा ही नोऊ मैना पली चौं मैं 
ऐकें ईं धरती मा मैं भी त्वै सुख देलु 
माना कि ह्वौ जौलू मैं विराणी पर त्वै न बिसरौलू 

तू ही छा जू मेरी पीड़ा समज्दी
तिरस्कार भी झेली व झेली अपमान भी 
फिर भी दिनी त्वैन जन्म मैकै सारी सब पीड़ा 
वचन छा मेरु देलु सब सुख त्वै 

हे मानव बेटियौं कें न समझा अभिशाप 
औंण दयवा हम्कैं भी इन दुनिया मा 
हमारू भी आस्तित्व रण दियवा 

बेटियौं कें भी अपणु प्यार दियवा

जिंदगी कुछ यंन छा गुजन लगीं बीस हजार मां



जिंदगी कुछ यंन छा गुजन लगीं बीस हजार मां

Sunday, April 27, 2014


जिंदगी कुछ यंन छा गुजन लगीं बीस हजार मां
अपडु पहाड़ छोड़ी पड़यां यख दिल्ली बाजार मां
रैंणु- खाणु जुलम कन ह्वे गे इं महंगाई मां
गुजारू मुश्किल ह्वे अब कुटंमदारी दगड़ा मां

कुटमदारी बोल्दी क्या छन कन्ना तुम ये घर बार मां
दगड़ी का तुम्हारा घुमण लाग्यां लम्बी कार मां
तौंन त ल्याली बडू फ्लैट द्वारका अर जमनापार मां
हमुन क्या यखी पड़यूँ राण एक कमरा रस्वाड मां

मौंटी की बोई बोन्नी अबरी दां झुमका दिलवा मेरा जनम्बार मां
भौत फदै ली तुमुन मैं चली गैंन कई मैना-बार हाँ
मौंटी की मां बोन्नी साड़ी आयीं नया फैशन की बाजार मां
अलमारी भरी छा कपड़ों न पर ह्वे वू अब बेकार हाँ

बच्चा पढ्दा प्राइवेट स्कूल मां तौंका नाखरा हजार हाँ
आज यू प्रोजेक्ट भोळ वू ड्रेस चैन्दी बिना देर-अबेर मां
कन परेशान करी यूँ स्कूल वालु न ह्वे मैं बुखार हाँ
बांजा पोड़ जैली तौकी मवासी कांडा लगला तौकी मवार मां

रिश्तादारी माँ ब्यो कु खर्चा त कभी कुटमदारी की दवैय दारू माँ
निभौंण भी जरुरी पड़दा यी काम जिंदगी का जंजाल माँ
कर्जा भी कातना ल्यांण पुराणु भी चढ़यूँ अस्सी हजार हाँ 
ज्यू मारी मारी जु रुपया टक्की बचाई वू जैन धरु धार मां

नौना बोल्दा पापा चला मौल- बाज़ार मां
जिकुड़ी झुरी जांदी मेरी खर्चा हुंदू बेकार मां
कैन लिनी जुत्ता-सैंडिल त कैन कपड़ा चार हजार मां
फारमैश सब्भी पूरी करदू मैं ये परिवार मां

होंदी जु नौकरी सरकारी त होंदी खांदी रंदी मौउ –भग्यानी
प्राइवेट नोकरी कु क्या भरोसू कब भोळ सबेर छुटी जांदी
मात-पिता, गुरु इष्ट कु रयुं चैंदु आशीष सदानी
जन भी छौं सुखी संपन्न ही रे मेरी मौउ –भग्यानी


सर्वाधिकार सुरक्षित द्वारा : विजय सिंह बुटोला
दिनांक: अप्रैल २७, २०१४