मेरा परिचय

My photo
Delhi, India
प्रिय उत्तरांचली मित्रो, आप सभी को मेरा आदर युक्त सादर सेवा भाविक नमस्कार,| मेरा नाम विजय सिंह बुटोला है | मैं मूल रूप से टिहरी गढ़वाल उत्तराखंड का निवासी हूँ | वर्तमान समय में मैं परिवार सहित दिल्ली में रहता हूँ | आज इन्टरनेट के मध्यम से हम सभी उत्तराखंडी एक दुसरे के साथ जुड़े हुए है तथा किसी न किसी रूप में उत्तराखंड की विभिन्न समाज सेवी संस्थाओ के द्वारा हम सभी वहा के जन-समुदाय के लिए अपने अपने सामर्थ अनुसार जुड़े हुए है | जिन्होंने अपने सतत प्रयासों द्वारा दुनिया भर में बसे उत्तराखंडियों को इंटरनेट के मध्यम से जोड़ा हुआ है , जहाँ हम सभी सफलतापूर्वक अपनी क्षमता और संसाधनों का विभिन्न रूपों में उत्तराखंड राज्य तथा उसके निवासियों के विकास के लिए उपयोग करते हैं |यह वास्तव में एक उत्कृष्ठ व सराहनीय प्रयास है| एक उत्तराखंडी होने के नाते मैं आप सभी से आशावान हूँ कि आपके दृढ-निश्चय और लगनशीलता से किए गए प्रयासों से ही हमारा उत्तराखंड निश्चय ही एक सम्रध व विकसित राज्य बन सकेगा |

Monday, December 19, 2016

मेरु क्या कसूर छा

Friday, January 31, 2014

मेरु क्या कसूर छा

मेरु क्या कसूर छा

रीति अर रिवाजो का नाम पर 
कुजाणी कब तल्क मिटणु रौलू मैं 
आंख्यो का आंसू पोंछी कें
मैं पूछी अपणी माँ थैं
किले दिनी त्वैन मैं बेटी कु जन्म
बोल मेरी माँजी मेरु क्या कसूर छा
जू मिली मैथै बेटी कु जन्म

क्या दर्द अर पीड़ा बनी कें रलू यो मेरु जीवन 
तेरी कोख मा ही नोऊ मैना पली चौं मैं 
ऐकें ईं धरती मा मैं भी त्वै सुख देलु 
माना कि ह्वौ जौलू मैं विराणी पर त्वै न बिसरौलू 

तू ही छा जू मेरी पीड़ा समज्दी
तिरस्कार भी झेली व झेली अपमान भी 
फिर भी दिनी त्वैन जन्म मैकै सारी सब पीड़ा 
वचन छा मेरु देलु सब सुख त्वै 

हे मानव बेटियौं कें न समझा अभिशाप 
औंण दयवा हम्कैं भी इन दुनिया मा 
हमारू भी आस्तित्व रण दियवा 

बेटियौं कें भी अपणु प्यार दियवा

No comments: